नृत्य नाटिका ‘अष्टपदियत्तम’ को पुनर्जीवित करने के समारोह का उद्घाटन

 

  • उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू ने 21 मई, 2018 को केरल के गुरुवयूर में प्राचीन नृत्य नाटिका ‘अष्टपदियत्तम’ को पुनर्जीवित करने के समारोह का उद्घाटन किया।
  • ‘अष्टपदियत्तम’ 12वीं शताब्दी के कवि जयदेव द्वारा लिखित गीत गोविंद है। इस अवसर पर केरल के राज्यपाल न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) पी शतशिवम तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।
  • उपराष्ट्रपति ने कहा कि यद्यपि देश ने अपनी कला विरासतों को संरक्षित रखा है और पालन पोषण किया है लेकिन दुर्भाग्य से कुछ शास्त्रीय भारतीय कला के रूप अनदेखी की अवस्था में हैं और धीरे-धीरे समाप्त हो रहे हैं। हमें इस दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति को जारी रहने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अपनी सांस्कृतिक जड़ों के कारण हम सतत हैं, हमारा जीवन सम्‍पन्‍न हुआ है और हमारा समाज अधिक मानवीय और सभ्य बना है।
  • उपराष्ट्रपति के अनुसार ‘अष्टपदियत्तम’ को पुनर्जीवित करना गड़े खजाने को बाहर निकालने जैसा है और मूर्छित पौधे को पानी देने जैसा है। 
  • गीत गोविंदम को यादगार साहित्यिक कृति बताते हुए उपराष्ट्रपति ने मेट्रो मैन ई श्रीधरन में नेतृत्व में चलाए जा रहे श्री गुरुवयुरप्पन धर्मकला समुच्यम ट्रस्ट की सराहना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *