सुपर अर्थ सहित 15 नए ग्रहों की खोज

  • जापान स्थित टोक्यो इंस्टीटड्ढूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों 15 नए एक्सोप्लनेट की खोज की है।
  • नासा के केपलर अंतरिक्ष यान के दूसरे मिशन ‘के 2’, हवाई स्थित सुबारु टेलीस्कोप और स्पेन स्थित नॉरडिक ऑप्टिकल टेलीस्कोप की सहायता से इन नए ग्रहों की खोज की गई है।
  • जो ग्रह खोजे गये हैं उनमें एक सुपर अर्थ हैं जसे कि पृथ्वी से आकार में बड़े हैं। यह है के2-155डी। सबसे बाहरी ग्रह के2-155डी पर पानी होने का अनुमान लगाया है कि जो कि पृथ्वी से 1.6 गुणा बड़ा है।
  • ये ग्रह पृथ्वी से 200 प्रकाश वर्ष दूर स्थित के2-155 नामक लाल रंग के बौने तारे का चक्कर लगा रहे हैं। लाल तारे आकार में अपेक्षाकृत छोटे और ठंडे होते हैं। 

क्या होता है रेड ड्वार्फ?

  • सूर्य की तुलना में लाल दानव तारों का द्रव्यमान 0.08 से 0.6 गुणा होता है अर्थात ये सूर्य से छोटे होते हैं। ये अन्य तारों की तुलना में ठंडे होते हैं। ये अपने ईंधन को बहुत धीरे-धीरे जलाते हैं इसलिए ये हॉट स्टार की तुलना में कम चमकीले दिखते हैं।

क्या होता है सुपर अर्थ?

  • खगोलीय भाषा वैसे में वैसे ग्रहों को सुपर अर्थ कहा जाता है जिनका द्रव्यमान पृथ्वी की तुलना में अधिक होता परंतु यूरेनस व नेपच्युन की तुलना में कम होता है।

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *