राष्ट्रीय आपदा सूचकांक-महाराष्ट्र की सर्वोाच्च रैंकिंग

भारत में बाढ़-फोटो साभारः flickr

क्याः राष्ट्रीय आपदा सूचकांक
कौनः महाराष्ट्र सर्वोच्च
किसलिएः आपदा से सर्वाधिक नुकसान

  • भारत का पहला राष्ट्रीय आपदा सूचकांक का ड्राफ्रट रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रलय एवं यूएनडीपी द्वारा तैयार किया गया है। यह सूचकांक आपदा जोखिम न्यूनीकरण पर सेनदाई फ्रेमवर्क (जिसने ह्योगो फ्रेमवर्क का स्थान लिया है) के प्रति भारत की प्रतिबद्धता के अनुरूप है।
  • यह सूचकांक देश के 640 जिलों के नुकसान मानचित्रण एवं सुभेद्यता पर आधारित है।
  • इसमें आपदाओं के प्रति आबादी, पशु, कृषि एवं पर्यावरण को होने वाले नुकसानों के आधार पर रैंकिंग की गई है।
  • सूचकांक के मुताबिक महाराष्ट्र सर्वाधिक आपदा जोखिम वाला राज्य है। उसके पश्चात पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश का स्थान है।
  • केंद्रशासित प्रदेशों में दिल्ली सर्वाधिक आपदा जोखिम प्रवण है।
  • सूचकांक के मुताबिक गुजरात, तमिलनाडु, असम, त्रिपुरा एवं हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों ने आपदाओं से सुरक्षा के लिए आधारिक संरचना में निवेश कर आपदा जोखिम से होने वाले नुकसान को कम करने में सफलता प्राप्त की है।
  • वहीं जिला स्तर पर देखा जाए तो आपदा जोखिम के प्रति सर्वाधिक प्रवण जिला पश्चिम बंगाल का 24 परगना है। दूसरे स्थान महाराष्ट्र का पुणे जिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *