अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस 2018

क्या: अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस
कब: 22 मई, 2018
थीमः जैव-विविधता पर कार्य के 25 साल का उत्सव

  • भारत सहित विश्व भर में 22 मई, 2018 को अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस (International Day for Biological Diversity: IDB) 2018 मनाया गया।
  • इस वर्ष इस दिवस की थीम थी ‘जैव-विविधता पर कार्य के 25 साल का उत्सव’ (Celebrating 25 years of action on biodiversity).
  • उपर्युक्त थीम के तहत अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस समारोह जैव-विविधता की अहमियत और जैव-विविधता को खतरा को लेकर जागरूकता बढ़ाने का सुअवसर प्रदान करता है।
  • समारोह से सतत विकास में जैव-विविधता का योगदान भी उजागर होता है।
  • यह समारोह जैविक विविधता पर सम्मेलन के 25 साल पूरे होने पर आयोजित किया गया।
  • राष्ट्रीय स्तर का समारोह हैदराबाद में प्रोफेसर जयशंकर तेलंगाना राज्य कृषि विश्वविद्यालय (पीजेटीएसएयू) सभागार में आयोजित किया गया।
  • इस मौके पर आंध्र प्रदेश एवं तेलंगाना के राज्यपाल श्री ई.एस.एल. नरसिम्हन ने कहा कि भारत सदियों से अपनी समृद्ध जैव-विविधता का संरक्षण करता रहा है।
  • अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस 2018 का आयोजन पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय जैव-विविधता प्राधिकरण और तेलंगाना राज्य जैव-विविधता बोर्ड के समन्वय से किया गया।

अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस

  • संयुक्त राष्ट्र ने 22 मई को जैव विविधता के मुद्दों के बारे में समझ और जागरूकता बढ़ाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय जैविक विविधता दिवस (आईडीबी) की घोषणा की।
  • जैव विविधता अभिसमय के लागू होने के उपलक्ष्य में 1993 के अंत में संयुक्त राष्ट्र महासभा की दूसरी समिति द्वारा पहली बार 29 दिसंबर को जैविक विविधता के अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में नामित किया गया था।
  • किंतु विश्व के कई देशों में 29 दिसंबर को अवकाश की अवधि होने के कारण संयुक्त राष्ट्र महासभा ने दिसंबर 2000 में एक प्रस्ताव पारित कर 22 मई को अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस मनाने का निर्णय किया। 22 मई, 1992 के नैरोबी सम्मेलन में जैव विविधता अभिसमय के सहमत बिंदुओं या टैक्स्ट को स्वीकार किया गया था।

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *