सांख्यिकी दिवस 2018 थीम

सांख्यिकी, सांख्यिकी प्रणाली एवं आर्थिक योजना निर्माण के क्षेत्रों में स्‍वर्गीय प्रोफेसर पी सी महालानोबिस द्वारा किए गए उल्‍लेखनीय योगदानों के सम्‍मान में भारत सरकार ने राष्‍ट्रीय स्तर पर प्रत्‍येक वर्ष मनाए जाने वाले विशिष्‍ट दिनों के वर्ग में 29 जून को ‘सांख्यिकी दिवस’ के रूप में निर्धारित किया है।

  •  29 जून, 2017 को प्रोफेसर पी सी महालानोबिस की जयंती के आरंभ के रूप में मनाया गया। भारतीय सांख्यिकी संस्‍थान (आईएसआई) ने वर्ष भर चलने वाले समारोहों का आयोजन किया है जिसका समापन 29 जून, 2018 को हो रहा है।
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्‍वयन मंत्रालय तथा आईएसआई 29 जून, 2018 को कोलकाता में संयुक्‍त रूप से ‘सांख्यिकी दिवस’ एवं प्रोफेसर पी सी महालानोबिस की 125वीं जयंती का समापन समारोह का आयोजन कर रहे हैं।
  • इस अवसर पर, उपराष्‍ट्रपति प्रोफेसर पी सी महालानोबिस के सम्‍मान में 125 रुपये का एक स्‍मारक सिक्‍का तथा पांच रुपये का एक वितरण सिक्‍का भी जारी करेंगे।
  • प्रो. पी वी सुखात्‍मे पुरस्‍कार 2018 एवं प्रो. सी आर राव पुरस्‍कार 2017 के विजेताओं को भी सांख्यिकी के क्षेत्र में उनके उल्‍लेखनीय योगदान के लिए सम्‍मानित किया जाएगा।

थीम 2018

  • इस वर्ष सांख्यिकी दिवस के लिए चुनी गई थीम ‘ आधिकारिक सांख्यिकी में गुणवत्‍तापूर्ण आश्वासन’ (Quality Assurance in Official Statistics) है। इस थीम का चयन सांख्यिकी प्रणालियों एवं उत्‍पादों में गुणवत्‍ता के अनिवार्य मानकों के अनुपालन के महत्‍व को रेखांकित करने के लिए किया गया है।
  • इस दिवस को मनाने का उद्वेश्‍य सामाजिक-आर्थिक योजना निर्माण एवं नीति निर्माण सांख्यिकी के महत्‍व के बारे में जागरुकता पैदा करना, प्रोफेसर पी सी महालानोबिस के योगदान को सम्‍मानित करना और उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित करना है।

भारतीय सांख्यिकी संस्‍थान 

  • कोलकाता में भारतीय सांख्यिकी संस्‍थान (आईएसआई) की स्‍थापना 1931 में प्रोफेसर पी सी महालानोबिस द्वारा की गई थी और उसे 1959 में संसद द्वारा पारित एक अधिनियम के द्वारा एक स्‍वायत्‍तशासी ‘ राष्‍ट्रीय महत्‍व के संस्‍थान’ घोषित किया गया। आईएसआई 29 जून को ‘ श्रमिक दिवस’ मनाता है। 

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *