वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का निधन

  • भौतिक विज्ञानी व ‘अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ के लेखक वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का 76 वर्ष की आयु में ब्रिटेन के कैंब्रिज में 13 मार्च, 2018 को निधन हो गया।
  • ज्ञातव्य है कि 21 वर्ष की आयु में वर्ष 1963 में मोटर न्यूरॉन बीमारी के लिए हॉकिंग का इलाज हुआ था। तत्समय चिकित्सकों ने कहा था कि वे दो वर्ष से अधिक समय तक जीवित नहीं रह सकते परंतु वे 50 वर्षों से अधिक समय तक जीवित रहे।
  • ब्रह्मांडविज्ञानी हॉकिंग का शोध क्षेत्र ब्लैक होल्स रहा।
  • उनकी प्रथम महत्वपूर्ण उपलब्धि 1970 की है जब उन्होंने रोजर पेनरोज के साथ मिलकर बताया कि ब्लैक होल्स ऊर्जा उत्सर्जित कर सकता है। यह अवधारण उन्होंने तब दी जब कहा जाता था कि ब्लैक होल्स के गुरुत्वाकर्षण से कुछ भी नहीं बच सकता, प्रकाश भी नहीं।
  • क्वांटम मिकेनिक्स से उत्पन्न गणितिय अवधारणा ‘हॉकिंग रैडिएशन’ ब्लैक होल्स को वाष्पित होने तथा खो जाने का काराण बनता है। हालांकि खगोलविदों या भौतिकविज्ञानी इसे सिद्ध नहीं कर पाये जिस कारण उन्हें मरने तक नोबेल पुरस्कार का इंतजार रहा।
  • लेकिन हॉकिंग को सर्वाधिक प्रसिद्धि मिली 1988 में प्रकाशित उनकी पुस्तक ‘अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ से। संडे टाइम्स में लगातार 237 सप्ताहों तक यह बेस्टसेलर्स बनी रही जिसकी वजह से इस पुस्तक को गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया
  • स्टीफन हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी, 1942 को ऑक्सफोर्ड में हुआ था, गैलिलियो के निधन के ठीक 300 वर्ष बाद।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *