आईआईटी मद्रास द्वारा राइजक्रीक (RISECREEK) विकसित

  • आईआईटी मद्रास के वैज्ञानिकों ने उद्योग-मानक आधारित 300 माइक्रोप्रोसेसर्स विकसित किया है। इस चिप का नाम है ‘राइजक्रीक’ (RISECREEK), और इसे प्रोजेक्ट शक्ति के तहत विकसित किया गया है। इसे इंटेल के ओरेगॉन (यूएसए) स्थित केंद्र पर निःशुल्क विकसित किया गया है जो लाइनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम पर रन करेगी।
  • वैज्ञानिकों के अनुसार दूसरों द्वारा भी एडेप्ट किया जा सकता है और इसकी डिजाइन ओपन सोर्स है।
  • यह पॉवर यूज को ऑप्टिमाइज कर सकती है और कॉर्टेक्स ए5 व एडवांस्ड रिस्क मशीन जैसी अंतरराष्ट्रीय इकाइयों के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकती है।
  • 350 मेगाहर्ट्ज की फ्रीक्वेंसी पर राइजक्रीक नाविक (भारत का अपना जीपीएस) एवं इंटरनेट ऑफ थिंग्स जैसे रक्षा एवं सामरिक उपकरणों की जरूरतों को पूरी कर सकती है।
  • प्रोजेक्ट-शक्ति आईआईटी-मद्रास की पहल है जिसे वर्ष 2014 में आरंभ की गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *