विश्व जनसंख्या दिवस 2018 थीम

Photo credit: UN
  • विश्व जनसंख्या दिवस 11 जुलाई, 2018 को मनाया गया।
  • इस वर्ष इस दिवस की थीम थी, ‘परिवार नियोजन मानवाधिकार है (Family Planning is a Human Right)
  • उल्लेखनीय है कि इस वर्ष, अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार सम्मेलन 1968 की 50वीं वर्षगांठ है जिसमें पहली बार परिवार नियोजन को मानवाधिकार माना गया था।
  • संयुक्त राष्ट्र संघ के अनुसार परिवार नियोजन को मानवाधिकार मानने के नौ मानक हैं। ये नौ मानक निम्नलिखित हैंः
    1.  कोई भेदभाव नहींः भाषा, जाति, क्षेत्र, लिंग, राष्ट्रीयता इत्यादि से परे परिवार नियोजन सेवाओं एवं सूचनाओं तक सभी की पहुंच
    2. उपलब्धताः प्रत्येक तक परिवार नियोजन सेवाओं की पहुंच
    3. पहुंचः प्रत्येक तक परिवार नियोजन सेवाओं की पहुंच
    4. स्वीकार्यः नसबंदी सेवाएं एवं सूचनाएं सम्मानजक तरीके से पहुंचाना
    5. अच्छी गुणवत्ताः परिवार नियोजन सूचना को स्पष्ट तरीके से संचारित करना
    6. सूचित निर्णयनः पूर्ण स्वायत्ता के साथ पुनःउत्पादक प्राथमिकताओं के लिए प्रत्येक व्यक्ति को सशक्त करना
    7. निजता एवं गोपनीयताः परिवार नियोजन सूचना एवं सेवा की मांग करते समय निजता एवं गोपनीयता का ध्यान रखना,
    8. भागीदारीः निर्णय से जो लोग प्रभावित हो रहे हैं उनमें उनकी भागीदारी
    9. जवाबदेहीः नीति निर्माताओं को लोगों के प्रति जवाबदेह होना

पृष्ठभूमि

  • 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की शासकीय परिषद् ने जनसंख्या मुद्दों की महत्ता पर त्वरित विचार करने के लिए जनसंख्या दिवस मनाने का निर्णय किया।
  • 11 जुलाई, 1987 को विश्व की आबादी पांच अरब हो गई थी। इसी के मद्देनजर 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है।

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *