भारतीय डाक विभाग की ‘ढ़ाई आखर’ पत्र लेखन प्रतियोगिता

Updated on August 5, 2018

  • भारतीय डाक विभाग ने ‘मेरे देश के नाम खत’ विषय पर ‘ढ़ाई आखर’ नाम से पत्र लेखन आयोजित करने की घोषणा की है।
  • ढ़ाई आखर प्रतियोगिता के तहत पत्र हिंदी या अंग्रेजी या स्थानीय भाषा में लिखी जा सकती है। मेरे देश के नाम खत
    पत्र लेखन प्रतियोगिता की थीम/विषय रविंद्र नाथ टैगोर की ‘अमार देशर माटी’ से प्रेरित है।

कौन भाग ले सकता है

  • इस पत्र लेखन प्रतिस्पर्धा में दो वर्ग हैं। एक वर्ग में 18 वर्ष से कम उम्र के छात्र होंगे तो दूसरे वर्ग में 18 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति भाग ले सकेंगे। प्रत्येक वर्ग में अंतर्देशीय पत्र (आईएलसी) व लिफाफा श्रेणियां होंगी।
  • प्रतिस्पर्धी को पत्र के साथ अपने आयु का प्रमाण पत्र भी भेजना होगा जैसे कि ‘मैं प्रमाणित करता/करती हूं कि मैं 1 जनवरी, 2018 को 18 वर्ष से कम/अधिक का/की हूं।’ 

प्रारूप

  • प्रतिस्पर्धी को ए-4 आकार के कागज पर पत्र लिखना होगा। यह पत्र लिफाफा श्रेणी में 1000 शब्दों से अधिक नहीं तथा अंतर्देशीय पत्र (आईएलसी) श्रेणी में 500 शब्दों से अधिक नहीं होना चाहिए। पत्र लेखन की प्रति को माईगव पोर्टल पर 30 सितंबर तक स्कैन कर सौपा जा सकता है। परंतु यह भी जरूरी है कि संबंधित सर्किल तक डाक के माध्यम से 30 सितंबर तक यह पहुंच भी सके। इसे अपने सर्किल के मुख्य पोस्ट मास्टर जनरल को संबोधित कर भेजना होगा। ग्रामीण क्षेत्र के संदर्भ में इसे स्थानीय बीओ में सौपा जा सकत है।

पुरस्कार

  • सर्किल स्तर पर प्रथम पुरस्कार 25,000 रुपए का, द्वितीय पुरस्कार 10,000 रुपए का तथा तृतीय पुरस्कार 5,000 रुपए का होगा। राष्ट्रीय स्तर पर विजेता को 50,000 रुपए, उप-विजेता को 25,000 रुपए तथा द्वितीय उप-विजेता को 10,000 रुपए प्रदान किए जाएंगे।

Written by 

2 thoughts on “भारतीय डाक विभाग की ‘ढ़ाई आखर’ पत्र लेखन प्रतियोगिता”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *