ड्राइपेटेस कलामीः पश्चिम बंगाल में पौधा की नई प्रजाति की खोज

  • बोटैनिकल सर्वे ऑफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने पश्चिम बंगाल के दो उद्यानों; बुक्सा एवं जल्दापाड़ा में पौधा की एक नई प्रजाति की पहचान की है।
  • इस पौधा का नाम है; ड्राइपेटेस कलामी’ (Drypetes kalamii) । 
  • भारत के पूर्व राष्ट्रपति व परमाणु वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम के सम्मान में इसे उनका नाम दिया गया है।

मुख्य विशेषताएं

  • यह फूल की एक छोटी से झाड़ी है और अपने निकट संबंधी ड्राइपेटेस एलिसी का छोटा रूप है।
  • एक केवल 1 मीटर लंबी है।
  • यह एकलिंगी प्रजाति है जिसका मतलब यह हुआ कि इसमें नर व मादा प्रजाति अलग-अलग हैं।
  • ड्राइेपेटेस की अन्य प्रजातियों की तुलना में इसके पत्ते, फूल व फल की संरचना भिन्न है।
  • चिकित्सीय पौधा पुत्रजीवा का यह निकट संबंधी है।
  • यह गीले व छायांकित क्षेत्र में प्राप्त होती है।
  • इसका फूल पीले रंग का होता है जबकि फल  नारंगी या लाल रंग का। 
  • यह पौधा बुक्सा नेशनल पार्क व जल्दापाड़ा नेशनल पार्क का नेटिव है। 
  • इस पादप प्रजाति को आईयूसीएन की विकट संकटापन्न (सीआर) सूची में शामिल किया जा सकता है क्योंकि यह उसकी शतों को पूरा करती है।  
  • ज्ञातव्य है कि ड्राइपेटेस ‘पुत्रन्जीवासीया’ (Putranjivanceae) परिवार से संबंध रखता है।
  • पूरे विश्व में इसकी 220 प्रजातियों की पहचान हुयी है।
  • इन 220 प्रजातियों में भारत में 20 पायी जाती हैं। 



Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *