अंडमान-निकोबार में भारत की 10 प्रतिशत जंतु प्रजातियां

         Image credit: The Hindu
  • जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया द्वारा ‘जैवभौगोलिक जोन की जंतु विविधता-भारत के द्वीप’ शीर्षक से जारी रिपोर्ट में पहली बार अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में पाई जाने वाली सभी प्रजातियों की डेटाबेस प्रकाशित की गई है।
  • इस रिपोर्ट के मुताबिक अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में कुल 11,009 जंतु प्रजातियां पाई जाती हैं।
  • रिपोर्ट के अनुसार अंडमान-निकोबार द्वीप समूह भारत के कुल क्षेत्रफल का महज 0.25 प्रतिशत है परंतु यहां देश की 10 प्रतिशत जंतु प्रजातियां पाईं जाती हैं।
  • नार्कोंडम हॉर्नबिल (Narcondam hornbill) व निकोबार मेगापोड (जो कि जमीन पर अपना घोसला बनाती है) (Nicobar megapode) नामक पक्षी प्रजातियां, निकोबार वृक्ष कर्कशा या ट्रीश्रीऊ (Nicobar treeshrew) जो कि छछुंदर जैसा स्तनधारी है, लंबी पूंछ वाला मकाक (Long-tailed Nicobar macaque) तथा अंडमान डे गेको (Andaman day gecko) सहित 1067 जंतु प्रजातियां केवल अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में पाईं जाती हैं।
  • अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, जो 572 द्वीपों का समूह है, का क्षेत्रफल 2849 वर्ग किलोमीटर है।
  • यहां छह पर्टिकुलर्ली वल्नरेब्ल ट्राइबल ग्रुप (particularly vulnerable tribal groups: PVTGs) निवास करते हैं। ये हैंः ग्रेट अंडमानीज, ओंगे, जारवा, सेंटनेलिज, निकोबारी व शैंपेन।
  • यहां की कुल आबादी 4 लाख से अधिक नहीं है।
  • हाल में भारत सरकार ने विदेशी (प्रतिबंधित क्षेत्र) 1963 के तहत कुछ विदेशी नागरिकों के लिए प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट में छूट प्रदान करते हुए 29 निर्जन द्वीप को 31 दिसंबर, 2022 तक छूट दे दी थी।

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *