सिंधु नदी डॉल्फिन पंजाब का राज्य जलीय जीव घोषित

  • पंजाब सरकार ने 1 फरवरी, 2019 को सिंधु नदी डॉल्फिन (Indus river Dolphin) को राज्य का जलीय जीव (state’s aquatic animal) घोषित किया है। इस मछली को भूलन (Bhulan) भी कहा जाता है।
  • राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता वाला राज्य वन्य जीव बोर्ड की बैठक में इस संकटापन्न प्रजाति के संरक्षण के लिए राज्य जलीव जीव घोषित करने का निर्णय लिया गया।
  • राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता वाला राज्य वन्य जीव बोर्ड की बैठक में इस संकटापन्न प्रजाति के संरक्षण के लिए राज्य जलीव जीव घोषित करने का निर्णय लिया गया। बोर्ड ने काजली आद्रभूमि (Kanjli Wetland ) एवं पवित्र काली बीन (Kali Bein) को वन्यजीव संरक्षण रिजर्व (wildlife conservation reserve) घोषित करने का भी निर्णय लिया।
  • सिंधु नदी डॉल्फिन ताजे पानी के डॉल्फिन में दूसरा सर्वाधिक संकटापन्न प्रजाति है।
  • सिंधु नदी (पाकिस्तान) में इसकी संख्या 1800 है और ब्यास नदी में इसकी संख्या महज 8 से 10 है।
  • विश्व में नदी डॉल्फिन की केवल सात प्रजातियां और उपप्रजातियां पाई जाती हैं जिनमें से एक है सिंधु नदी डॉल्फिन।
  • यह विश्व की सर्वाधिक दुर्लभ स्तनधाारियों में से कए है।
  • यह मछली अंधी होती है। ऐसा कहा जाता है इन मछलियों का उद्भव प्राचीन टेथिस सागर में हुआ था और उसके सूख जाने के पश्चात वहीं के पास की नदियों को अपना पर्यावास बना लिया।
  • इसका वैज्ञानिक नाम प्लैटेनिस्ता माइनर (Platanista minor) है।
  • विश्व में ताजे पानी के डॉल्फिन हैंः आमेजन नदी डॉल्फिन (बोटो या पिंक रिवर डॉल्फिन), टुकुक्सी (भूरे रंग की आमेजन नदी डॉल्फिन), गंगा नदी डॉल्फिन (सुसु), सिंधु नदी डॉल्फिन (भूलन), इरावदी नदी डॉल्फिन, यांग्त्जी नदी डॉल्फिन।

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *