नासा का केप्लर मिशन ने ‘शुभरात्रि’ संदेश के साथ मिशन समाप्त किया

  • 15 नवंबर, 2018 की शाम को, नासा के केप्लर स्पेस टेलीस्कॉप को पृथ्वी के साथ संचार को डिस्कनेक्ट करने के लिए कमांड का अंतिम सेट प्राप्त हुआ।
  • “शुभरात्रि” कमांड से अंतरिक्ष यान सेवानिवृत्ति हो गया, जो 30 अक्टूबर को नासा की इस घोषणा के साथ शुरू हुआ था कि केप्लर का ईंधन समाप्त हो गया था और अब विज्ञान का संचालन नहीं कर सकता।
  • संयोग से, केप्लर का “शुभरात्रि” सन्देश, जर्मन खगोलविद जोहान्स केप्लर की मृत्यु की वर्षगांठ है, जिन्होंने ग्रह के गति के नियमों की खोज की और 388 साल पहले 15 नवंबर, 1630 को उनकी मृत्यु हो गई।
  • केप्लर द्वारा नौ से अधिक वर्षों की सेवा के दौरान एकत्र किए गए डेटा अगले कई वर्षों तक रोमांचक खोजों के लिए उपयोग किया जाएगा।
  • नासा के केप्लर अंतरिक्ष यान को डेल्टा-2 रॉकेट से 6 मार्च, 2009 को फ्लोरिडा के केप कैनावेरल वायुसेना स्टेशन से प्रक्षेपित किया गया था।
  • अंतरिक्ष में 9.6 वर्षों के दौरान, केप्लर अंतरिक्ष यान ने दो मिशन पूरा किए, 5,30,506 सितारों का अवलोकन किया , 2,662 ग्रहों की खोज की, 61 सुपरनोवा रिकॉर्ड किए और वैज्ञानिकों के लिए 678 जीबी विज्ञान डेटा एकत्र करने में मदद की।

नासा द्वारा दर्ज केप्लर की उपलब्धियां

                                                IMAGE CREDIT: NASA

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *