असम में 22 सितंबर को ‘राइनो दिवस’

  • असम सरकार ने एक सिंह वाले गैंडों के संरक्षण के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए प्रतिवर्ष 22 सितंबर को ‘राइनो दिवस’ () के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।
  • राज्य कैबिनेट की 23 फरवरी, 2018 को हुयी बैठक के दौरान राज्य का गौरव कहे जाने वाले 25,000 राइनो आबादी को एक दिन समर्पित करने के लिए 22 सितंबर को राइनो दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया।
  • राष्ट्रीय गैंडा परियोजना की तर्ज पर राज्य गैंडा परियोजना भी आरंभ करने का निर्णय लिया गया ताकि शिकारियों से उसे बचायाा जा सके।
  • ‘विश्व राइनो दिवस: ज्ञातव्य है कि सर्वप्रथम वर्ष 2010 में विश्व वन्य जीव कोष-अफ्रीका ने 22 सितंबर को ‘विश्व राइनो दिवस’ मनाना आरंभ किया गया। इसकी सफलता से उत्साहित होकर अन्य जगहों पर भी 22 सितंबर को विश्व राइनो दिवस मनाया जाने लगा।
  • राइनों की प्रजातियांः विश्व भर में राइनों की पांच प्रजातियां पायी जाती हैं। ये हैं:  ब्लैक राइनो, व्हाइट राइनो, ग्रेटर वन हॉर्न्ड राइनो, सुमात्र राइनो व जावा राइनो।
  • इनमें सुमात्र राइनो सबसे छोटा है।
  • जावा राइनो सर्वाधिक संकटापन्न प्रजाति है और इसकी संख्या महज 60 है।
  • भारत में पाया जाने वाला ग्रेटर वन हॉर्न्ड राइनो या भारतीय राइनो (Rhinoceros unicornis) को आईयूसीएन ने अपनी लाल सूची में ‘वल्नेरेब्ल’ (vulnerable) श्रेणी में रखा है।




Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *