मोनोजेनिक मधुमेह के मामलों की पहचान करने के लिए राष्ट्रीय मोनोजेनिक मधुमेह अध्ययन समूह

  • देश भर में मोनोजेनिक मधुमेह (Monogenic diabetes) के मामलों की पहचान करने के लिए, एक राष्ट्रीय मोनोजेनिक मधुमेह अध्ययन समूह का गठन किया गया है।
  • समूह को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर), मद्रास डायबिटीज रिसर्च फाउंडेशन (एमडीआरएफ) और डॉ मोहन के डायबिटीज स्पेशलिटी सेंटर (डीएमडीएससी) द्वारा समर्थित किया गया है।
  • अध्ययन समूह के लिए यह राष्ट्रीय समन्वय केंद्र होगा।
  • इस पहल के तहत, एमडीआरएफ मोनोजेनिक मधुमेह की पहचान के लिए सहयोगियों को दिशानिर्देश प्रदान करेगा।
  • यह कोलैबोरेशन मोनोजेनिक मधुमेह के मामलों की पहचान करेंगे और उनके विवरण भेजेंगे।

मोनोजेनिक मधुमेह के बारे में

  • मोनोजेनिक मधुमेह विकारों का एक समूह है जहां एक जीन का उत्परिवर्तन मधुमेह का कारण बनता है.
  • मोनोजेनिक मधुमेह के तीन सबसे आम रूप हैं – मोडी (Maturity Onset Diabetes of the Young: MODY), नवजात डायबिटीज मेलिटस (Neonatal Diabetes Mellitus: NDM) और  प्रारंभिक मधुमेह (Congenital Hypoglycaemia)।  

Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *