विश्व सूचना प्रौद्योगिकी कांग्रेस 2018 (WCIT), हैदराबाद

  • प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये विश्व सूचना प्रौद्योगिकी कांग्रेस (World Congress on Information Technology-WCIT) का उद्घाटन 19 फरवरी, 2108 को किया।
  • यह सम्मेलन हैदराबाद में आयोजित हो रहा है।
  • यह सम्मेलन पहली बार भारत में आयोजित हो रहा है।
  • इस सम्मेलन का आयोजन नैसकॉम, विट्सा व तेलंगाना सरकार के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है।
  • तीन दिवसीय (19-21 फरवरी) सम्मेलन की थीम है, ‘डिजिटल युग के वादों को पूरा करना’ (Fulfilling the promise of digital age) ।
  • इस सम्मेलन में ‘रोबोट सोफिया’ भी वक्ता के रूप में आमंत्रित थी।
  • प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में सरकार द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में किये जा रहे प्रयासों का उल्लेख किया। ये प्रयास निम्नलिखित हैं;
    • नैसकॉम ने आठ महत्‍वपूर्ण प्रौद्योगिकियों की पहचान की है। इनमें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, आभासी वास्‍तविकता, रोबोटिक प्रक्रिया स्‍वचालन, इंटरनेट ऑफ थिंग्‍स, बिग डेटा एनालाइटिक्‍स, 3डी प्रिंटिंग, क्‍लाउड कम्‍प्‍यूटिंग और सोशल एंड मोबाइल शामिल हैं। 
    • ऑप्टिकल फाइबर से जुड़े एक लाख से ज्‍यादा गांव, 121 करोड़ मोबाइल फोन, 120 करोड़ आधार और 50 करोड़ इंटरनेट सेवा का उपयोग करने वाले लोगों के साथ भारत दुनिया में प्रौद्योगिकी के साथ स‍हजता से जुड़ी सबसे बड़ी आबादी वाला देश हैं.
    • डिजिटल इंडिया देश में डिजिटल तरीके से सेवाएं उपलब्‍ध कराने के लिए आवश्‍यक डिजिटल आधारभूत ढांचा खड़ा करते हुए डिजिटल सशक्तिकरण का सशक्‍त माध्‍यम बन रहा है।
    • जन-धन योजना, आधार और मोबाइल (जेएएम) को एक साथ लाने से देश में गरीब लोगों के 32 करोड़ जन-धन खातों को आधार और मोबाइल से जोड़ा जा सका है और सरकार की कल्‍याणकारी योजनाओं का लाभ सीधे लाभार्थियों तक पहुंचाकर सरकार के 57 हजार करोड़ रूपये बचाये गये हैं।
    • देशभर में 172 अस्‍पतालों में लगभग दो करोड़ 20 लाख डिजिटल लेन-देन के माध्‍यम से रोगियों को राहत मिली है। आसानी से छात्रवृत्ति पाने के लिए राष्‍ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल शुरू करने से देश में एक करोड़ 40 लाख छात्र इसमें पंजीकृत हो चुके हैं।
    • ऑनलाइन कृषि बाजार ई-नाम किसानों को उनके उत्‍पादों के बेहतर मूल्‍य दिलाने में मदद कर रहा है। इस पर 65 लाख किसानों ने पंजीकरण कराया है, इसके जरिये 470 कृषि बाजार आपस में जुड़ गये हैं।
    • जनवरी, 2018 में भीम एप के जरिये 15 हजार करोड़ रुपये का लेन-देन किया गया है।
    •  तीन महीने पहले शुरू किया गया अनूठा उमंग एप 185 तरह की सरकारी सेवा उपलब्ध करा रहा है। आज देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में 2.8 लाख ऐसे कॉमन सर्विस सेन्‍टर हैं, जो लोगों को कई तरह की डिजिटल सेवाएं दे रहे हैं। इन केन्‍द्रों पर करीब दस लाख लोग काम कर रहे हैं, जिनमें हजारों की संख्‍या में महिला उद्यमी भी हैं। 
    • हर घर में डिजिटल साक्षरता शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता मिशन है, इसके जरिये ग्रामीण भारत में छह करोड़ वयस्‍कों को डिजिटल रूप से साक्षर बनाया जाएगा। इस अभियान के तहत एक करोड़ लोगों को प्रशिक्षित किया जा चुका है
    • सरकारी ई-मार्केट-प्‍लेस को भारत के राष्‍ट्रीय खरीद पोर्टल के रूप में विकसित किया गया है। इससे छोटे एवं मझोले उद्यमों के लिए सरकार की खरीद संबंधी जरूरतों की पूर्ति हेतु आपस में प्रतिस्‍पर्धा करना संभव हो गया है।

क्या है विश्व सूचना प्रौद्योगिकी एवं सेवा (WISTA)?

  • वर्ष 1978 में स्थापित विश्व सूचना प्रौद्योगिकी एवं सेवा (World Information Technology and Services Alliance-WISTA) संगठन का निगमीकरण संयुक्त राज्य अमेरिका के वर्जिनिया में 1998 में हुयी।
  • वैश्विक संचार व सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग की अग्रणी आवाज है विस्टा।
  • यवोनी चिउ इसका अध्यक्ष हैं।



Written by 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *